Complications of Life

पेड़ों की शाखों को कई दफ़ा,
ख़ुद की जड़ें काटते हुए देखा है,
औरों के आँसू पोछने वालों को,
ज़ार-ज़ार रोते हुए देखा है,
ज़िन्दगी के सिक्के के भी दो पहलू हैं,
कहीं प्यार है तो कहीं धोखा है,
फिर भी इस जद्दो-जहद भरी ज़िन्दगी में,
मैंने खुद को कई गुनाह करने से रोका है. 

Popular posts from this blog